B +Ve !!

A site for all positive thinkers to grow together !

इश्क़

5 Comments

The Horizon

जिस्म से नहीं, होता है जब इश्क़ रूह से
तब वो इश्क़, इश्क़ नहीं, बंधन रूहानी होता है ।

रोता है, जब कोई प्रेमी किसी की याद में
तब वो आँसू, आँसू नहीं, पवित्र मोती होता है ।

कोई ग़ज़लकार तो नहीं इश्क़ फरमाने वाले, पर इश्क़ में
कलम से निकला हर लफ्ज़ एक शायरी होता है ।

सिखा देता है इश्क़, इश्क़ में क्या से क्या कर गुज़रना
हर जाहिल आवारा दिल, इश्क़ में माहिर होता है ।

ज़माने से छुपाते फिरते हैं, अपने इश्क़ को इश्कजादे
पर इश्क़ बिन बताए, आँखों से जग-जाहिर होता है ।

इश्क़ को मिटाने के लिए बहुतेरे दुश्मन पैदा होंगे
पर इस बंधन को सँवारने खातिर खुदा खुद माली होता है ।

मुश्किल राहें अनेक हैं, एक से बढ़कर एक हैं
पर इश्क़ के खेल में, पत्थर भी पानी होता है ॥

View original post

Author: DEBASIS NAYAK

A natural leader who experiments a lot and cares for all ! The title of my blog is not about my blood group. It's a message to all my readers to think positive and write on my blog posts openheartedly what they think!!

5 thoughts on “इश्क़

Leave a Reply to Nancy Nelson Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s