B +Ve !!

A site for all positive thinkers to grow together !

परछाई बूंदों की होती

6 Comments

The Horizon

परछाई बूंदों की होती, सागर की नहीं
अंधेर दीपक तले होता, सूर्य के नहीं
नज़र है पास सबके, क्यों नज़रिया नहीं ?
ज़िन्दगी है पास सबके, क्यों जीने का रवैया नहीं ?

धुंध छाए आकाश में, बरसता बादल है धुआं नहीं
विकल्प सबके पास है, चुनने का हक़ या हुनर नहीं
जय होती दूसरों की, क्यों पहले खुद की नहीं ?
सवाल करे जहां से, क्यों पहले खुद से नहीं ?

सच्चाई की राह इंसान भटकता है, राह खुद नहीं
समझ छोटी-छोटी बातें, कर बड़ी-बड़ी बातें नहीं
धुंधला हो रहा जहां, कहीं धूल तेरे ऐनक में तो नहीं ?
ढूंढ़ता जीवन ग्रहों पर, क्यों शुरुआत अपने घर से नहीं ?

View original post

Author: DEBASIS NAYAK

A natural leader who experiments a lot and cares for all ! The title of my blog is not about my blood group. It's a message to all my readers to think positive and write on my blog posts openheartedly what they think!!

6 thoughts on “परछाई बूंदों की होती

  1. वाक़ई खूबसूरत कविता है।👌👌

    Liked by 4 people

  2. शब्द और उनकी गहराई बेहद प्रेरणादायक है।💯

    Liked by 2 people

Leave a Reply to Arjoo Jain Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s