B +Ve !!

A site for all positive thinkers to grow together !


Leave a comment

मैं इंसान हूं

Profound to the roots.
Great poem!

The Horizon

समझना चाहो तो मैं
खुली किताब हूँ
नहीं तो
खुद से ही अनजान हूँ
किसी का अरमान
किसी का जहान हूँ
गलतियों की खदान
ज्ञान का आसमान हूं
मैं ही हूं जीवन
मैं ही आम
मैं ही खास हूं
प्रेम का स्रोत
अपना ही परिणाम हूं
मैं ही शांति दूत
मैं ही जंग का आधार
कभी पल-पल में अलग
कभी एक समान हूँ
न कम आंक मुझे
मैं इंसान हूँ
खुद में ही ब्रह्मांड हूँ ॥

View original post


14 Comments

HAPPY ENGINEER’S DAY!

Unsophisticated Articles

September 15 is celebrated as Engineers Day in India. The day is celebrated by the Engineering Community all over India as a tribute to India’s greatest engineer Bharat Ratna Visvesvaraya, who was born on September 15, 1860.

This year the theme of Engineers day is “Engineering Challenges for Knowledge Era”.
To celebrate this day and wish your friends here is a list of messages, quotes and wishes that you can share with them.

We build the world (Civil Engineer.)

We build the magic world (Computer Engineer)

We connect the world (Electronics and Communication Engineer.)

We are the powers of world (Electrical Engineer)

We move the world (Mechanical Engineer).

A poem is being dedicated to our engineers across the globe!

We have the capability to bring a change,
We have the potential to make this world a better place,
We are the future of tomorrow !
We are the engineers
We…

View original post 346 more words


6 Comments

MY BEST TEACHER

Life is a continuous learning and reading process

It does impart and teach lessons without a recess

All lessons are without lectures, books and classrooms nonetheless

We remember them for a lifetime ; failed or passed nevertheless

My best teacher undoubtedly was who taught me English

She was determined each of her students became a linguist…

My Best Teacher


4 Comments

जीवित है

The Horizon

जीवित है
कुछ करना है कर जा
न तुच्छ बन
न तुच्छ समझ किसी को
मृत्यु की न ख़्वाहिश कर
जी, और जी जा
वक़्त है अभी तो
दुआ कर
कल की ज़िन्दगी बन जा
बेहतर समाज की कल्पना कर
उसे हकीकत कर जा
तरसेगा हर लम्हे को
जो है बिताया
जब नहीं रहेगा कुछ खोने को
जब नहीं रहेगा कुछ पाने को
एक अहसान कर
खुद पर, मुझ पर
इंसान बन
इंसानियत सिखा जा
जाने से पहले अपने पीछे
कुछ नम पलकें और
चार मज़बूत कंधे बुन जा
न व्यर्थ कर खुद को
ज़िन्दगी के अर्थ को
दुनिया जो कहानी पढ़े तेरी
ऐसा इतिहास बदल कि
खुद इतिहास बन जा ॥

View original post


7 Comments

अपने सपने हो गए

The Horizon

एक-एक कर सब अपने
अब सपने हो गए
कुछ सपने हैं
उसमें से कुछ ही अपने हैं
जाने पहचाने रिश्ते
अनजाने हो गए
देखते-देखते
क्या से क्या हो गए
कुछ पल में बदल गए
कुछ तो बस
यूं ही बदल गए
हम देखते रह गए कि
कब हम पराए हो गए
कोई पूछे नहीं हाल-चाल
रिश्तों में खटास
ऐसे ही गुज़रे
जाने कितने साल-दर-साल
सोचता हूं रूठ जाऊं
बस बहुत हो गया
ऐसे जीते-जीते, पर
मनाने वाला कौन है
जाने को चला जाऊं
सब छोड़ कर, पर
जाने के बाद
रोने वाला कौन है
चार दिन में भूल जाते हैं लोग
मतलब निकल जाने पर पूछते
भाईसाहब आप कौन हैं ?
जी रहा हूँ मैं, पर
किसलिए ?
किसके लिए ?

View original post


9 Comments

बचपन

Great post with great message.
It’s a social need to protect the childhood and every child deserves that.
It’s the foundation of a value driven society where children learn and prosper.

THE HIDDEN SOUL

कहीं गुम हो गई वो मासुमियत
खो गई कहीं वो प्यारी मुसकान
इस असंतोषी भागमभाग भारी ज़िन्दगी में
यादें उन बीते दिनों की
यादें उन गुजरे पलों की
याद आती है फिर
बचपन की वो हँसी फुलवारी
थोड़ा कच्चापन, थोड़ी नादानी
वो हर समय की खेल-कूद
वो हर पल शैतानी
नहीं जानते क्या सही या गलत
नहीं जानते छल-कपट
वो तोतली आवाज़ में बातें
वो हर पल दिमाग में चलती नई खुराफाती
वो हर दिन की नई जिज्ञासा
नए नए प्रश्नों के साथ हाजिर
वो छोटी छोटी लड़ाई दो पल की
फिर मनाना दो पल का
पर ये विडंबना आज की
कि छिन गया है बचपन बच्चो का
अब हाथ में खिलौने या किताबें नहीं
औजार है
नन्हे नन्हें बच्चें पालक है परिवार के
बच्चे काम पर जा रहे है
खो रहा है बचपन
खो रहा है बचपन ।
© ईरा सिंह

ये कविता मैंने कॉलेज में कविता लेखन प्रतियोगिता…

View original post 15 more words


2 Comments

WILDERNESS

Beautiful lines...

So press the button
And accept God as our Saviour

Do remember;
In your darkest time
You are not alone!!!

Accept the presence of the Lord!

WORDSNOW HEART

You are abandoned
And alone in darkness
You heard your footsteps
Walking to the absence of light

You heard yourself crying
Sobbing into tears
Finding for accompany
But no one is there

It's just you in wilderness
Shouting your silence
Longing for someone
But no one is coming

Your eyes is blind
You never seen the majesty
The blanket that prepares on you
To comfort you from wilderness

You are in wilderness
Appreciate it,
It is the season to grow yourself
It is the season to embrace oneself
Poured love and make it grandeur
Through your wilderness
You never alone
It has you to fight for it
To grow with eminence power

Wilderness is to switch on the light
That we need God
It is a buzzer to press on
To accept God
While we are walking on wilderness
He guide us and light up your way

So press the…

View original post 23 more words


Leave a comment

MY SANCTUARY

The words untrammelled

When I shiver with fear,
My eye will drop a tear,
I will need someone dear,
To be there to hear;

My heart sinks so low,
And my smile says ” no”,
Tough stories all in a row,
You will be the first to know;

The grief will crowd in a hurry,
My wish I would try to bury,
With every reason to worry,
In you I will find my sanctuary!

Copyright 2015 Chitkala Mulye (Chitkala Aditosh

View original post


Leave a comment

नया साल (NEW YEAR)

Great thoughts!

The Golden Moon's Poetry

बीत गया वो साल गया
देखो फिर नया साल आया है
फिर सर्दियों के महीनों में
हर्ष और उल्लास आया है
कुछ साथी संग के छूट गए
कुछ अपने थे जो रूठ गए
कुछ अनजाने थे वो जुड़ गए
यूं ही खट्टे मीठे अनुभव लाया है
बीत गया वो साल गया
देखो फिर नया साल आया है,

हर तरफ उत्साह , धूम मची है
पुराने पलो की याद छिडी है
नए उमंगों संग, नए सपने ये लाया है
बीत गया वो साल गया
देखो फिर नया साल आया है

तू भूल मत पिछला अपना
क्या सीखा तूने, क्या पाया है
वो अनमोल रत्न तेरे अनुभव
तेरे भाग्य के कुछ अनकहे संकल्प
नए अनुभव के साथ ये फिर
नया साल आया है
बीत गया वो साल नया
देखो फिर नया साल आया है

गिर कर उठना ,उठ कर गिरना
तू चलते चलना राही निडर
जीवन तो निरंतर चलना है
रुक कर…

View original post 50 more words


Leave a comment

FOR HIM WITH LOVE

Nice poem with great expression of human emotions…

Vrunda Chauk

i fall for him when he calls me “princess”

i fall for him when shows kindness for humans and animals alike

i fall for him when he knows me more than i understand myself

i fall for him when he genuinely shows interest in things i love

i fall for him when he is angry and then even more angry coz he can’t stay mad at me

i fall for him when he touches me without using his hands

i fall for him when he tells me he would still love me the same even when i make a mess

i fall for him when he understands the pain I’ve been through and promises me a “happily ever after”

i fall for him when he understands and supports my passion

i fall for him when he encourages me to be the best version of myself

i fall for him when…

View original post 19 more words