B +Ve !!

A site for all positive thinkers to grow together !


2 Comments

युद्ध से नफरत कर

The Horizon

युद्ध विनाश है
इससे नफरत कर
सभ्यताओं का करे सर्वनाश
जिसे रखा युगों से संजो कर
युद्ध कोई जवाब नहीं
है ये एक सवाल
टाल सिर पर लटकी
युद्ध की तलवार
भला न तेरा, भला न मेरा
फिर क्यों करता
ये भी मेरा, वो भी मेरा ?
मोहब्बत से जीत सकते
हैं हर युद्ध अगर
फिर क्यों तू बनाता
बैठ हथियार रात भर
शुरू या अंत में युद्ध समाप्त होता
जब हाथ मिला, हस्ताक्षर कर
तुम्हारे निशाने पर है कोई अगर
तुम भी हो किसी के निशाने पर
बर्बाद कर पृथ्वी को
खुद खड़े बर्बादी के मुहाने पर
इस धरती का क्या दोष
मासूमों का क्या दोष
सांसारिक वस्तुओं खातिर
जीवन दाँव पर लगा
कहाँ खोया हमने अपना होश
जीते तो हम अपनों के लिए हैं
वरना जानवर भी क्या कम हैं
अपने ही हाथों खोदनी पड़ती
अपनों की कब्र है
इस धरा पर सब
धरा रह जाना है
तेरा…

View original post 114 more words


Leave a comment

मैं इंसान हूं

Profound to the roots.
Great poem!

The Horizon

समझना चाहो तो मैं
खुली किताब हूँ
नहीं तो
खुद से ही अनजान हूँ
किसी का अरमान
किसी का जहान हूँ
गलतियों की खदान
ज्ञान का आसमान हूं
मैं ही हूं जीवन
मैं ही आम
मैं ही खास हूं
प्रेम का स्रोत
अपना ही परिणाम हूं
मैं ही शांति दूत
मैं ही जंग का आधार
कभी पल-पल में अलग
कभी एक समान हूँ
न कम आंक मुझे
मैं इंसान हूँ
खुद में ही ब्रह्मांड हूँ ॥

View original post


4 Comments

जीवित है

The Horizon

जीवित है
कुछ करना है कर जा
न तुच्छ बन
न तुच्छ समझ किसी को
मृत्यु की न ख़्वाहिश कर
जी, और जी जा
वक़्त है अभी तो
दुआ कर
कल की ज़िन्दगी बन जा
बेहतर समाज की कल्पना कर
उसे हकीकत कर जा
तरसेगा हर लम्हे को
जो है बिताया
जब नहीं रहेगा कुछ खोने को
जब नहीं रहेगा कुछ पाने को
एक अहसान कर
खुद पर, मुझ पर
इंसान बन
इंसानियत सिखा जा
जाने से पहले अपने पीछे
कुछ नम पलकें और
चार मज़बूत कंधे बुन जा
न व्यर्थ कर खुद को
ज़िन्दगी के अर्थ को
दुनिया जो कहानी पढ़े तेरी
ऐसा इतिहास बदल कि
खुद इतिहास बन जा ॥

View original post


6 Comments

परछाई बूंदों की होती

The Horizon

परछाई बूंदों की होती, सागर की नहीं
अंधेर दीपक तले होता, सूर्य के नहीं
नज़र है पास सबके, क्यों नज़रिया नहीं ?
ज़िन्दगी है पास सबके, क्यों जीने का रवैया नहीं ?

धुंध छाए आकाश में, बरसता बादल है धुआं नहीं
विकल्प सबके पास है, चुनने का हक़ या हुनर नहीं
जय होती दूसरों की, क्यों पहले खुद की नहीं ?
सवाल करे जहां से, क्यों पहले खुद से नहीं ?

सच्चाई की राह इंसान भटकता है, राह खुद नहीं
समझ छोटी-छोटी बातें, कर बड़ी-बड़ी बातें नहीं
धुंधला हो रहा जहां, कहीं धूल तेरे ऐनक में तो नहीं ?
ढूंढ़ता जीवन ग्रहों पर, क्यों शुरुआत अपने घर से नहीं ?

View original post


7 Comments

अपने सपने हो गए

The Horizon

एक-एक कर सब अपने
अब सपने हो गए
कुछ सपने हैं
उसमें से कुछ ही अपने हैं
जाने पहचाने रिश्ते
अनजाने हो गए
देखते-देखते
क्या से क्या हो गए
कुछ पल में बदल गए
कुछ तो बस
यूं ही बदल गए
हम देखते रह गए कि
कब हम पराए हो गए
कोई पूछे नहीं हाल-चाल
रिश्तों में खटास
ऐसे ही गुज़रे
जाने कितने साल-दर-साल
सोचता हूं रूठ जाऊं
बस बहुत हो गया
ऐसे जीते-जीते, पर
मनाने वाला कौन है
जाने को चला जाऊं
सब छोड़ कर, पर
जाने के बाद
रोने वाला कौन है
चार दिन में भूल जाते हैं लोग
मतलब निकल जाने पर पूछते
भाईसाहब आप कौन हैं ?
जी रहा हूँ मैं, पर
किसलिए ?
किसके लिए ?

View original post


9 Comments

बचपन

Great post with great message.
It’s a social need to protect the childhood and every child deserves that.
It’s the foundation of a value driven society where children learn and prosper.

THE HIDDEN SOUL

कहीं गुम हो गई वो मासुमियत
खो गई कहीं वो प्यारी मुसकान
इस असंतोषी भागमभाग भारी ज़िन्दगी में
यादें उन बीते दिनों की
यादें उन गुजरे पलों की
याद आती है फिर
बचपन की वो हँसी फुलवारी
थोड़ा कच्चापन, थोड़ी नादानी
वो हर समय की खेल-कूद
वो हर पल शैतानी
नहीं जानते क्या सही या गलत
नहीं जानते छल-कपट
वो तोतली आवाज़ में बातें
वो हर पल दिमाग में चलती नई खुराफाती
वो हर दिन की नई जिज्ञासा
नए नए प्रश्नों के साथ हाजिर
वो छोटी छोटी लड़ाई दो पल की
फिर मनाना दो पल का
पर ये विडंबना आज की
कि छिन गया है बचपन बच्चो का
अब हाथ में खिलौने या किताबें नहीं
औजार है
नन्हे नन्हें बच्चें पालक है परिवार के
बच्चे काम पर जा रहे है
खो रहा है बचपन
खो रहा है बचपन ।
© ईरा सिंह

ये कविता मैंने कॉलेज में कविता लेखन प्रतियोगिता…

View original post 15 more words