MY LORD JAGANNATH

Originally posted on Half earth, half sky:
O My Lord Jagannath! No pompous poem of any poet can portray your glory No thought of any philosopher can explain your mystery No paintbrush of any painter can sketch your beauty No frame of any photographer can capture your radiance No sculpture of any sculptor can duplicate…

शुभ रथयात्रा -सब मनिसा मोर परजा!!

Originally posted on The REKHA SAHAY Corner!:
    हम रहते हैं उस देश में, जहाँ देह से परे, हर बात में आध्यात्म होता है। शंख क्षेत्र पुरुषोत्तम पुरी में, दशावतारों  विष्णु से बुद्ध तक  पूजे जाते है। इस संदेश के साथ- सब मनिसा मोर परजा …..मेरी प्रजा है सब जन. अर्द्धनिर्मित श्री जगन्नाथ, सुभद्रा…