ज़ेहन में सवाल

The Horizon

कई सवाल
ज़ेहन में उठते हैं मेरे
अगर हम जीते हैं तो
जीते क्यों नहीं ?
अगर ईश्वर को मानते हैं, तो
खुद में उसे ढूँढ़ते क्यों नहीं ?
ऐसा व्यवहार दूसरों से
क्यों करते हम
जो खुद संग होते
देख सकते नहीं ?
कहते हैं
जो चीज़ कम होती है
उसकी कीमत बढ़ जाती है
तो ईमान-प्रेम की क्यों नहीं ?
गलत कौन, अगर सब सही हैं
कोई सही भी कैसे जब
अगर कोई गलत नहीं ?
धन, मौका, वक्त, प्रसिद्धि,
प्रेम, इज्ज़त, ज़िन्दगी
जिसको मिलती है
वो कद्र नहीं करता
जो कद्र करता है
उसे मिलती क्यों नहीं ?

View original post

Published by Debasis

A natural leader who experiments a lot and cares for all ! The title of my blog is not about my blood group. It's a message to all my readers to think positive and write on my blog posts openheartedly what they think!!

2 thoughts on “ज़ेहन में सवाल

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: