B +Ve !!

A site for all positive thinkers to grow together !


Leave a comment

HAPPY WOMEN’S DAY !

vj.sadhak

Picture credit: Internet

“एक स्त्री”

जब बच्चों की नादानियाँ न थम रहे हों,
बापू की डाँट से बचने को वो सहम रहे हों,
तब ममता की छाव लिए जो पास आये, एक स्त्री।

जब चंदू खूब शैतानियां ढा रहा हो,
अपने बंधु से ही हाथापाई कर आ रहा हो,
तब पड़ोस की आंटी से जो बचाये, एक स्त्री।

जब खिलौनों की मनसा मन ही मन उमड़ रही हो,
स्वाती अपने भाई से माँगने को लड़ रही हो,
तब इक खिलौना नया जो पास लाये, एक स्त्री।

जब स्कूल का कार्य अधूरा रह रहा हो,
मास्टर रोज़-रोज़ शिकायतें कर रहा हो,
तब एक अध्यापिका जो घर-घर हम पाएं, एक स्त्री।

जब राखी का पर्व मिठाईयां ला रहा हो,
चंदू, स्वाती से स्नेह बंधवा रहा हो,
तब उसे फ़र्ज़ का पाठ जो पढ़ाये, एक स्त्री।

जब चंदू जवानी का पायदान चढ़ रहा हो,
और लड़का-लड़की में फर्क समझ रहा हो,
तब दोनों…

View original post 161 more words


2 Comments

पिता (FATHER)

I love this poem. Here the love of a child for father is very well expressed.

I tried with Google translator on the original poem written in hindi language and got the following.

I find those in the mind,
I bow that head there,
Under whose shadow
I am able to define,
Thoughts which I can do,
Bring success to life,
They are such priests,
Whose I am called son.

Whenever hopeless ever happens,
Or get upset,
While still on the path,
The path gets confused,
Then the mother gives wishes,
And from where I bring patience,
Resolving confusing paths,
Then I get it from ancestral knowledge,
They are such priests,
Whose songs I sing.

vj.sadhak

My father my motivation

पाता हूं जिनको मन-वन में,
तत् शीश वहीं झुकाता हूँ,
जिनकी छाया में पल-ढ़ल कर,
मम् परिभाषित हो पाता हूँ,
मनन-वचन जिनका कर मैं,
जीवन में सफलता लाता हूँ,
ऐसे परम् पूज्य हैं वो,
जिनका मैं पुत्र कहलाता हूँ।

जब होता आशाहीन कभी,
या फिर व्यथित हो जाता हूँ,
सत् पथ होकर भी जब,
पथ भ्रमित हो जाता हूँ,
तब जननी देती अभिलाषा,
और धैर्य जहाँ से लाता हूँ,
भ्रमित पथ का निराकरण,
तब पितृ ज्ञान से पाता हूँ,
ऐसे परम् पूज्य हैं वो,
जिनका गुणगान मैं गाता हूँ।

-vj

Father, you have always believed in me, more than I even believe in myself, thanks for your words of encouragement, you made me who I am today. Your love, care, and support are priceless to me. Father is the greatest gift of Lordall over the world. Show and give proper respect and time to your parents…

View original post 17 more words