बचपन

Originally posted on THE HIDDEN SOUL:
कहीं गुम हो गई वो मासुमियतखो गई कहीं वो प्यारी मुसकान इस असंतोषी भागमभाग भारी ज़िन्दगी में यादें उन बीते दिनों की यादें उन गुजरे पलों की याद आती है फिर बचपन की वो हँसी फुलवारीथोड़ा कच्चापन, थोड़ी नादानीवो हर समय की खेल-कूदवो हर पल शैतानी नहीं जानते क्या…