B +Ve !!

A site for all positive thinkers to grow together !


Leave a comment

KARVA CHAUTH

Karwa Chauth is a festival celebrated by Hindu women from the Indian Subcontinent on the fourth day after purnima (a full moon) in the month of Kartika. Like many Hindu festivals, Karwa Chauth is based on the lunisolar calendar which accounts for all astronomical positions, especially positions of the moon which is used as a marker to calculate important dates. The festival falls on the fourth day after the full moon, in the Hindu lunisolar calendar month of Kartik.

On Karwa Chauth, married women, especially in North India, observe fast from sunrise to moonrise for the safety and longevity of their husbands. The Karwa Chauth fast is traditionally celebrated in the states of Delhi, Haryana, Rajasthan, Punjab, Jammu and Kashmir, Uttar Pradesh, Madhya Pradesh and Himachal Pradesh. It is celebrated as Atla Tadde in Andhra Pradesh.

https://www.speakingtree.in/allslides/interesting-facts-about-karwa-chauth-no-one-knows

Have a blissful day full of glory …


2 Comments

कश्मीर ~ KASHMIR

The Horizon

भटकती हैं मेरी यादें
उन पर्वतों के गलियारों में
कुदरत का खूबसूरत नमूना
पेश-ए-खिदमत
जिसकी रक्षा की है
देश के जवानों ने ।

कोई इज़्ज़त लूट रहा है इन वादियों की
कोई इज़्ज़त बचा रहा है अपने साथियों की
क्या समझ घास चरने गयी है
सब देश के चालक, समझदारों की ?
मख़मली बर्फ़, आग़ोश में भर पर्वतों को
मरहम लगाती उन जमे हुए अश्कों से
जिसे इंसानों ने पाट, पगडंडी बनाई
मार साथियों को हथियारों से ।

है वो जन्नत पर
उस जन्नत से उसका कोई वास्ता नहीं
यहां बैठे हैं कई राक्षस,
जिनका देवताओं जैसा कोई मुखौटा नहीं
जिंदादिली और ताकत का मिश्रण
जिया है मैंने इन आंखों से
साज-सज्जा में कोई कमी नहीं की
ईश्वर ने संजोया-तराशा है अपने हाथों से ।

ये मूर्ख इतना भी नहीं समझते
इसको बाँट-बाँट, खुद को बाँट रहे हैं
और सारा दोष असीम शाँत घाटियों पर
मढ़ने से बाज नहीं आते…

View original post 71 more words


2 Comments

OUR ATTITUDE DECIDES OUR ALTITUDE

GITA WISDOM #25

ऊर्ध्वं गच्छन्ति सत्त्वस्था मध्ये तिष्ठन्ति राजसाः।
जघन्यगुणवृत्तिस्था अधो गच्छन्ति तामसाः॥

The virtuous ones ascend great heights; the greedy stay put where they are; while the inactive go down to the gutters. Action without fruit-orientation leads to glory. (14.18)

सत्त्वगुण में स्थित पुरुष स्वर्गादि उच्च लोकों को जाते हैं, रजोगुण में स्थित राजस पुरुष मध्य में अर्थात मनुष्य लोक में ही रहते हैं और तमोगुण के कार्यरूप निद्रा, प्रमाद और आलस्यादि में स्थित तामस पुरुष अधोगति को अर्थात कीट, पशु आदि नीच योनियों को तथा नरकों को प्राप्त होते हैं
॥18॥

The virtuous ones ascend great heights; the greedy stay put where they are; while the inactive go down to the gutters. Action without fruit-orientation leads to glory. (14.18)

Have a great beginning of the day …


Leave a comment

NOBLE THOUGHTS #20

“When your associates change their minds, make sure you don’t change your mood.”

“When your associates change their minds, make sure you don’t change your mood.”

Have a beautiful day …