THE STEADFAST MIND

GITA WISDOM # 73Chapter 13 Verse 9 असक्तिरनभिष्वङ्‍ग: पुत्रदारगृहादिषु।नित्यं च समचित्तत्वमिष्टानिष्टोपपत्तिषु॥ पुत्र, स्त्री, घर और धन आदि में आसक्ति का अभाव, ममता का न होना तथा प्रिय और अप्रिय की प्राप्ति में सदा ही चित्त का सम रहना ॥9॥ Withdrawing from desires of possessions, and family bondages a manager, with steadfast mind towards the worldlyContinue reading “THE STEADFAST MIND”

THE RESULT OF UNBALANCED MIND

GITA WISDOM # 72Chapter 2 Verse 66-67 नास्ति बुद्धिरयुक्तस्य न चायुक्तस्य भावना।न चाभावयतः शान्तिरशान्तस्य कुतः सुखम्‌॥ ~ 2.66 न जीते हुए मन और इन्द्रियों वाले पुरुष में निश्चयात्मिका बुद्धि नहीं होती और उस अयुक्त मनुष्य के अन्तःकरण में भावना भी नहीं होती तथा भावनाहीन मनुष्य को शान्ति नहीं मिलती और शान्तिरहित मनुष्य को सुख कैसेContinue reading “THE RESULT OF UNBALANCED MIND”

THE PATH TO A STEADY MIND

GITA WISDOM # 71Chapter 2 Verse 65 प्रसादे सर्वदुःखानां हानिरस्योपजायते।प्रसन्नचेतसो ह्याशु बुद्धिः पर्यवतिष्ठते॥ श्लोक 65 – अध्याय 2 – गीता का सार     अन्तःकरण की प्रसन्नता होने पर इसके सम्पूर्ण दुःखों का अभाव हो जाता है और उस प्रसन्नचित्त वाले कर्मयोगी की बुद्धि शीघ्र ही सब ओर से हटकर एक परमात्मा में ही भलीभाँतिContinue reading “THE PATH TO A STEADY MIND”

EXECUTIVE STRESS

GITA WISDOM # 70Chapter 3 Verse 19 तस्मादसक्तः सततं कार्यं कर्म समाचर।असक्तो ह्याचरन्कर्म परमाप्नोति पुरुषः॥ श्लोक 19 – अध्याय 3 – कर्मयोग इसलिए तू निरन्तर आसक्ति से रहित होकर सदा कर्तव्यकर्म को भलीभाँति करता रह क्योंकि आसक्ति से रहित होकर कर्म करता हुआ मनुष्य परमात्मा को प्राप्त हो जाता है ॥19॥ An executive who dischargesContinue reading “EXECUTIVE STRESS”

TOWARDS A FUTURE STEEPED IN CONSCIOUSNESS

Originally posted on ashokbhatia:
In the preceding post, we brought in focus the fact that the first step in the process of evolution is the act of creation of information, followed by the emergence of energy and matter. Their interaction creates the Cosmic Mind and the Cosmic Consciousness, which also comprises such other subsets as…

INNER SATISFACTION

GITA WISDOM # 69Chapter 3 Verse 17 ( ज्ञानवान और भगवान के लिए भी लोकसंग्रहार्थ कर्मों की आवश्यकता ) यस्त्वात्मरतिरेव स्यादात्मतृप्तश्च मानवः।आत्मन्येव च सन्तुष्टस्तस्य कार्यं न विद्यते॥ परन्तु जो मनुष्य आत्मा में ही रमण करने वाला और आत्मा में ही तृप्त तथा आत्मा में ही सन्तुष्ट हो, उसके लिए कोई कर्तव्य नहीं है ॥17॥ AContinue reading “INNER SATISFACTION”

WHEN LAZINESS SURFACES

GITA WISDOM # 68Chapter 14 Verse 13 अप्रकाशोऽप्रवृत्तिश्च प्रमादो मोह एव च।तमस्येतानि जायन्ते विवृद्धे कुरुनन्दन॥ हे अर्जुन! तमोगुण के बढ़ने पर अन्तःकरण और इंन्द्रियों में अप्रकाश, कर्तव्य-कर्मों में अप्रवृत्ति और प्रमाद अर्थात व्यर्थ चेष्टा और निद्रादि अन्तःकरण की मोहिनी वृत्तियाँ – ये सब ही उत्पन्न होते हैं ॥13॥ Human beings suffer from various melodies whenContinue reading “WHEN LAZINESS SURFACES”

WHEN TENSIONS ARISE

GITA WISDOM # 67Chapter 14 Verse 12 लोभः प्रवृत्तिरारम्भः कर्मणामशमः स्पृहा।रजस्येतानि जायन्ते विवृद्धे भरतर्षभ॥ हे अर्जुन! रजोगुण के बढ़ने पर लोभ, प्रवृत्ति, स्वार्थबुद्धि से कर्मों का सकामभाव से आरम्भ, अशान्ति और विषय भोगों की लालसा- ये सब उत्पन्न होते हैं ॥12॥ When the greed-based behaviour surfaces, there is perceptible increase in selfish desires and earthlyContinue reading “WHEN TENSIONS ARISE”

HOW TO TRANSCEND THE HUMAN ATTRIBUTE – “BONDAGE”

GITA WISDOM # 66 Chapter 14 verse 25 मानापमानयोस्तुल्यस्तुल्यो मित्रारिपक्षयोः।सर्वारम्भपरित्यागी गुणातीतः सा उच्यते॥ जो मान और अपमान में सम है, मित्र और वैरी के पक्ष में भी सम है एवं सम्पूर्ण आरम्भों में कर्तापन के अभिमान से रहित है, वह पुरुष गुणातीत कहा जाता है ॥25॥ The path to cross the human bondage involves twoContinue reading “HOW TO TRANSCEND THE HUMAN ATTRIBUTE – “BONDAGE””

HOW TO ATTAIN PEACE

GITA WISDOM # 65Chapter 14 verse 20 गुणानेतानतीत्य त्रीन्देही देहसमुद्भवान्‌।जन्ममृत्युजरादुःखैर्विमुक्तोऽमृतमश्नुते॥ यह पुरुष शरीर की (बुद्धि, अहंकार और मन तथा पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ, पाँच कर्मेन्द्रियाँ, पाँच भूत, पाँच इन्द्रियों के विषय- इस प्रकार इन तेईस तत्त्वों का पिण्ड रूप यह स्थूल शरीर प्रकृति से उत्पन्न होने वाले गुणों का ही कार्य है, इसलिए इन तीनों गुणों कोContinue reading “HOW TO ATTAIN PEACE”

THE SPOKEN WORD

GITA WISDOM # 64 Chapter 17 verse 15 अनुद्वेगकरं वाक्यं सत्यं प्रियहितं च यत्‌।स्वाध्यायाभ्यसनं चैव वाङ्‍मयं तप उच्यते॥ जो उद्वेग न करने वाला, प्रिय और हितकारक एवं यथार्थ भाषण है (मन और इन्द्रियों द्वारा जैसा अनुभव किया हो, ठीक वैसा ही कहने का नाम ‘यथार्थ भाषण’ है।) तथा जो वेद-शास्त्रों के पठन का एवं परमेश्वरContinue reading “THE SPOKEN WORD”

THE FUNCTIONS OF THE BODY

GITA WISDOM # 63 Chapter 17 verse 14 देवद्विजगुरुप्राज्ञपूजनं शौचमार्जवम्‌।ब्रह्मचर्यमहिंसा च शारीरं तप उच्यते॥ देवता, ब्राह्मण, गुरु (यहाँ ‘गुरु’ शब्द से माता, पिता, आचार्य और वृद्ध एवं अपने से जो किसी प्रकार भी बड़े हों, उन सबको समझना चाहिए।) और ज्ञानीजनों का पूजन, पवित्रता, सरलता, ब्रह्मचर्य और अहिंसा- यह शरीर- सम्बन्धी तप कहा जाता हैContinue reading “THE FUNCTIONS OF THE BODY”